देश

प्रधानमंत्री मोदी ने नौसेना दिवस पर कहा भारतीय संस्कृति के अनुसार नौसेना में रैंकों का नाम बदला जाएगा

प्रधानमंत्री ने कहा कि नौसेना के ध्वज की प्रतिकृति में छत्रपति शिवाजी महाराज की राजमुद्रा का चिह्न है

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सिंधुदुर्ग में नौसेना दिवस समारोह को संबोधित करते समय यह एलान किया कि भारतीय संस्कृति के अनुसार नौसेना में रैंकों का नाम बदला जाएगाराजकोट किले में छत्रपति शिवाजी महाराज की प्रतिमा का अनावरण करने के बाद नौसेना दिवस 2023 पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने नौसेना को ताकतवर बनाने पर जोर दिया। प्रधानमंत्री ने कहा कि नौसेना के ध्वज की प्रतिकृति में छत्रपति शिवाजी महाराज की राजमुद्रा का चिह्न है। लेकिन नौसेना अधिकारी जो एपॉलेट पहनते हैं, उसमें भी अब छत्रपति शिवाजी महाराज की झलक दिखाई देगी।उन्होंने आगे कि सरकार सशस्त्र बलों में महिलाओं की संख्या बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध है। प्रधानमंत्री ने कहा कि हमने जब समुद्र पर नियंत्रण खोया कमजोर हुए। इस खोये हुए गौरव का वापस पाना हमारा लक्ष्य है। उन्होंने कहा कि छत्रपति शिवाजी महाराज को भरोसा था कि जिसने समुद्र पर नियंत्रण पा लिया वह सर्वशक्तिमान है। इसलिए, उन्होंने एक शक्तिशाली नौसेना बनाई। उनसे प्रेरणा लेकर आज भारत गुलामी की मानसिकता को छोड़कर आगे बढ़ रहा है।

इस दौरान उन्होंने यह भी कहा कि हम अपने सशस्त्र बलों में महिला शक्ति को बढ़ाने पर भी काम कर रहे हैं। उन्होंने जहाज पर देश की पहली महिला कमांडिंग अफसर नियुक्त करने पर नौसेना को बधाई दी। बता दें कि एक साल पहले प्रधानमंत्री ने छत्रपति शिवाजी महाराज से प्रेरित होकर नौसेना का नया ध्वज जारी किया था।

उन्होंने कहा कि विदेशियों ने हमारी शक्ति को निशाना बनाया। नाव और जहाज बनाने की हमारी कला को ठप कर दिया गया। आज जब हम विकसित भारत के लक्ष्य पर आगे बढ़ रहे है तो इस खोये हुए गौरव को फिर से पाकर रहना है। सरकार इस दिशा में आगे बढ़ रही है। सागरमाला के तहत पौर्टलैंड डेवलपमेंट हो रहा है। मेरीटाईम विजन के तहत देश अपने सागरों के पूरे सामर्थ्य का इस्तेमाल करने की ओर आगे बढ़ रहा है। मर्चेंट शिपिंग को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने नए नियम बनाए हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि आज का भारत अपने लिए बड़े लक्ष्य तय कर रहा है। उसे पाने के लिए पूरी शक्ति लगा रहा है। भारत के पास इन लक्ष्यों को पूरा करने के लिए 140 करोड़ के विश्वास और दुनिया की सबसे बड़े लोकतंत्र की ताकत है।

तीन राज्यों (राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़) के चुनाव नतीजों का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि कल आपने देखा जब लोगों की भावनाएं और आकांक्षाएं जुड़ती हैं तो कितने सार्थक परिणाम दिखते हैं। सभी राज्य राष्ट्र प्रथम की भावना से ओतप्रोत हैं। देश आगे बढ़ेगा तो हम आगे बढ़ेगा यह भावना हर नागरिक के मन में है। यही प्रण विकसित भारत की ओर ले जाएगा। मोदी ने तारकर्ली समुद्र तट से भारतीय नौसेना के जहाजों, पनडुब्बियों, विमानों और विशेष बलों के अभियानगत प्रदर्शन को देखा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button