देश

कानून संरक्षण के लिए है और कानून को बंधक बनाकर कोई किसी की सुरक्षा पर सेंध लगाने का प्रयास नहीं करें : सीएम योगी आदित्यनाथ

सीएम योगी ने कहा कि पीएम मोदी के मार्गदर्शन में विगत छह सालों में उत्तर प्रदेश और गोरखपुर ने विकास से अपनी नई पहचान बनाई है

18 सितंबर 2023 :  गोरखपुर के मानसरोवर रामलीला मैदान में रविवार को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आयोजित समारोह में 343 करोड़ रुपये की विकास परियोजनाओं का शिलान्यास व लोकार्पण करने के बाद उपस्थित जनसमूह को संबोधित किया.

इस दौरान सीएम योगी आदित्यनाथ ने विकास व जनकल्याण के लिए सुदृढ़ कानून व्यवस्था का उल्लेख करते हुए कहा कि कानून संरक्षण के लिए है. लेकिन कानून को बंधक बनाकर व्यवस्था में सेंध लगाने का प्रयास करने की इजाजत किसी को नहीं है. कानून सुरक्षा के लिए है, लेकिन यदि किसी ने बहन-बेटी के साथ छेड़खानी की तो अगले चौराहे पर उस शोहदे का इंतजार यमराज कर रहे होंगे. उसे यमराज के यहां भेजने से कोई रोक नहीं पाएगा. हमें सुरक्षा के बेहरीन वातावरण देना होगा. कानून संरक्षण के लिए है और कानून को बंधक बनाकर कोई किसी की सुरक्षा पर सेंध लगाने का प्रयास नहीं करें.

सीएम योगी ने कहा कि सरकार विकास, लोक कल्याण व बिना भेदभाव सभी लोगों तक योजनाओं का लाभ पहुंचाने के लिए संकल्पित और समर्पित है. सरकार के साथ यदि नागरिक भी अपने कर्तव्यों का निर्वहन करते रहेंगे तो विकास कार्यों में बैरियर बनने वाले स्वतः बेनकाब होते दिखेंगे. विकास की परियोजनाओं में बैरियर बनने वालों को बेनकाब करने का काम सरकार भी तेजी से कर रही है. उन्होंने कहा कि विकास कार्यों को सरकार की शीर्ष प्राथमिकता को दृष्टिकोण देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि विकास कार्यों में किसी भी स्तर पर लापरवाही नहीं होनी चाहिए. कोई भी लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी. कोई भी कार्यदायी संस्था हो, उसे मानक व गुणवत्ता के साथ विकास कार्य करने को प्रतिबद्ध होना होगा. आज विकास ही गोरखपुर और उत्तर प्रदेश की पहचान है. छह वर्ष पूर्व प्रदेश में गोरखपुर की और देश मे उत्तर प्रदेश के प्रति लोगों की धारणा क्या थी. पहचान क्या थी, विकास की क्या स्थिति थी, यह सबको पता है.

सीएम योगी ने कहा कि पीएम मोदी के मार्गदर्शन में विगत छह सालों में उत्तर प्रदेश और गोरखपुर ने विकास से अपनी नई पहचान बनाई है. आज उत्तर प्रदेश की पहचान देश में विकास, सुशासन और बेहतरीन कानून व्यवस्था की है. यहां दशकों से लंबित परियोजनाएं पूरी हो रही हैं. गोरखपुर के विकास कार्यों की चर्चा करते हुए बंद पड़े खाद कारखाना के स्थान पर नए कारखाना की स्थापना, एम्स आदि के साथ रामगढ़ताल के कायाकल्प का भी उल्लेख किया. सीएम ने कहा कि जम्मू कश्मीर से बेहतरीन झील गोरखपुर में है. रामगढ़ताल के रूप में यह नई पहचान बनकर देश-दुनिया को आकर्षित कर रहा है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि गोरखपुर विकास की एक नई सोच दे रहा है. आज जिस रामलीला मैदान में यह कार्यक्रम हो रहा है, उस पर छह साल पहले कब्जा हो रहा था. आज इसका भव्य मंच अनेक कार्यक्रम का साक्षी बनता है. उन्होंने कहा कि आज गोरखपुर से 14 फ्लाइट की सुविधा है. ऐसा नहीं होता तो आज बारिश के चलते लखनऊ से यहां आना संभव नहीं हो पाता और कार्यक्रम कैंसिल करना पड़ता. गोरखपुर में बेसिक शिक्षा परिषद के सभी स्कूलों का जीडीए व नगर निगम के सहयोग से कायाकल्प कराया जा रहा है. उन्हें हाई क्लास पब्लिक स्कूल जैसा बनाने का कार्य हो रहा है. इसी तरह इंटर कॉलेजों में स्मार्ट क्लास और डिजिटल लाइब्रेरी बनाने का कार्य युद्ध स्तर पर हो रहा है. उन्होंने कहा कि गोरखपुर में स्पोर्ट्स कॉलेज हैं तो साथ ही स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स भी बन रहा है. सहजनवा में अटल आवासीय विद्यालय बन गया है. फर्टिलाइजर कैम्पस में सैनिक स्कूल बन रहा है. यही नहीं यह चार विश्वविद्यालय वाला शहर भी है.

मुख्यमंत्री ने गोरखपुर में हो रहे औद्योगिक विकास का उल्लेख करते हुए कहा कि गोरखपुर नए निवेश व नए उद्योग के केंद्र के रूप में भी आगे बढ़ा है. ‘हर बार गीडा में एक नई फैक्ट्री का उद्घाटन करके जाता हूं. हर फ़ैक्ट्री दो से ढाई हजार लोगों के रोजगार का माध्यम बनती है. उद्योगों की चर्चा को आगे बढ़ाते हुए उन्होंने कहा कि पिपराइच में दोबारा चीनी मिल लग चुकी है. बंद पड़ा खाद कारखाना का फिर से चलने लगा है. सभी लोगों से अपील की अपने नागरिक दायित्व को समझते हुए स्वच्छ व सुंदर गोरखपुर बनाने का संकल्प लें. मोहल्ले में सड़क या नाली में कूड़ा न डालें. किसी भी सार्वजनिक सम्पत्ति को नुकसान न पहुंचने दें, उसका संरक्षण करें. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सभी लोगों को भगवान विश्वकर्मा जयंती की बधाई दी. इसके साथ ही गोरखपुरवासियों और प्रदेशवासियों की तरफ से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को उनके जन्मदिन पर शुभकामनाएं देते हुए उनके स्वस्थ और दीर्घ जीवन की कामना की.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button