उत्तराखंडराज्य

तृतीय केदार भगवान तुंगनाथ के शीतकालीन गद्दीस्थल मार्केण्डेय मंदिर मक्कूमठ में 16 वर्षों के बाद इस वर्ष 22 अप्रैल से 11 दिवसीय महायज्ञ शुरू होगा

तृतीय केदार भगवान तुंगनाथ के शीतकालीन गद्दीस्थल मार्केण्डेय मंदिर मक्कूमठ में 16 वर्षों के बाद इस वर्ष 22 अप्रैल से 11 दिवसीय महायज्ञ शुरू होगा

रुद्रप्रयाग/देहरादून। तृतीय केदार भगवान तुंगनाथ के शीतकालीन गद्दीस्थल मार्केण्डेय मंदिर मक्कूमठ में 16 वर्षों के बाद इस वर्ष 22 अप्रैल से 11 दिवसीय महायज्ञ शुरू होगा। अनुष्ठान में क्षेत्र व विश्व कल्याण की कामना के साथ प्रतिदिन विशेष पूजा-अर्चना होगी।

मार्केण्डेय मंदिर परिसर में मठाधिपति राम प्रसाद मैठाणी की अध्यक्षता में हुई बैठक में आचार्यगणों व पुंच पुरोहितों ने पंचांग गणना से महायज्ञ का दिन तय किया। गणना के अनुसार, 19 अप्रैल केा भगवान तुंगनाथ जी का हल्दी हाथ होगा। 20 को हवन पूजा व सकलीकरण और 21 को कुंड की स्थापना, 22 को विशेष पूजा-अर्चना व अन्य धार्मिक परंपराओं के साथ महायज्ञ का शुभारंभ होगा। दसवें दिन 1 मई को भव्य जलकलश यात्रा का आयोजन होगा। वहीं, 2 मई को पूर्णाहुति व प्रसाद वितरण के साथ अनुष्ठान संपन्न होगा। बैठक में आचार्य शारदानंद देवशाली, नवीन देवशाली, पंच पुरोहित अध्यक्ष प्रियधर मैठाणी, देवरा समति अध्यक्ष भूपेंद्र मैठाणी, ग्राम प्रधान विजयपाल नेगी, क्षेपं सदस्य जयवीर नेगी, सरपंच विजय चौहान, यज्ञ प्रभारी प्रकाश पुरोहित, प्रबंधक दलवीर नेगी, माहेश्वर प्रसाद मैठाणी, प्रकाश मैठाणी, राजेंद्र भंडारी, उमा दत्त मैठाणी, चंद्र सिंह रावत, विजय रावत, गोपाल सिंह चौहान आदि थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button