उत्तराखंड

मुख्यमंत्री उच्च शिक्षा प्रोत्साहन छात्रवृत्ति योजना का हुआ शुभारम्भ !!!

सीएम ने छात्रों को उनके शैक्षिक सफर में हर संभव सहायता देने का आश्वासन भी दिया

कैंट रोड स्थित सीएम कार्यालय में आयोजित मुख्यमंत्री उच्च शिक्षा प्रोत्साहन छात्रवृत्ति योजना का शुभारम्भ करते हुए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने स्नातक के प्रथम वर्ष में चयनित 241 छात्र-छात्राओं को डीबीटी के जरिए छात्रवृत्ति की राशि दी। कार्यक्रम में सीएम ने छात्र-छात्राओं को बधाई देते हुए राष्ट्र के विकास से जुड़ने का आह्वान किया। कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा है कि 21 वीं शताब्दी को तीसरा दशक उत्तराखंड का होगा। साथ ही उनका ख्वाब है वर्ष 2047 तक भारत को विकसित राष्ट्र लाना। राज्य और राष्ट्र से जुड़े इन दोनों स्वप्नों को साकार युवा शक्ति ही कर सकती है।

सीएम ने छात्रों को उनके शैक्षिक सफर में हर संभव सहायता देने का आश्वासन भी दिया। कहा कि कई बार मेधावी, योग्य और क्षमतावान होने के बावजूद युवा उच्च शिक्षा से वंचित रह जाते हैं। संसाधनों का अभाव, माता-पिता की कमजोर आर्थिक स्थिति उनके सामने अड़चन बनकर खड़ी हो जाती है। इसे देखते हुए ही सरकार ने कक्षा छह से लेकर उच्च शिक्षा स्तर तक छात्रवृत्ति योजना शुरू की। इसके साथ विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं में प्रारंभिक परीक्षा पास करने वाले मेधावियों को आगे की तैयारी के लिए प्रोत्साहन राशि, कोचिंग आदि की सुविधाएं भी दी जा रही हैं। सरकार हर मेधावी छात्र-छात्रा के साथ उनका अभिभावक की तरह हर वक्त खड़ी रहेगी। इस मौके पर सीएम ने विभिन्न डिग्री कालेज में ऑनलाइन माध्यम से जुड़े छात्र-छात्राओं से बातचीत भी की। शिक्षा मंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने भी विभिन्न योजनाओं की जानकारी दी। कहा कि आज उत्तराखंड देश का पहला राज्य बन गया है, जिसने उच्च शिक्षा क्षेत्र में मेधावियों के लिए छात्रवृत्ति योजना शुरू की। उच्च शिक्षा में प्रदेश आगे बढ़ रहा ह।इस मौके पर उच्च शिक्षा सलाहकार परिषद के उपाध्यक्ष डॉ.देवेंद्र भसीन, उच्च शिक्षा सचिव शैलेश बगोली, अपर सचिव डॉ. आशीष श्रीवास्तव, निदेशक डॉ. सीडी सूंठा, उपसचिव ब्योमकेश दुबे, डॉ. दीपक पांडेय आदि मौजूद रहे।

उच्च शिक्षा सचिव शैलेश बगोली ने बताया कि फिलहाल छात्रवृत्ति 12 वीं में न्यूनतम 80 प्रतिशत और अधिक पाने वाले छात्र-छात्राओं को दी जा रही है, जिन्होंने स्नातक के प्रथम वर्ष में प्रवेश लिया है। आज डीबीटी के जरिए 33.51 लाख रुपये जारी किए गए हैं। संकायवार तैयार की गई मेरिट लिस्ट के आधार पर प्रथम को तीन हजार, द्वितीय को दो हजार और तृतीय को प्रतिमाह 1500 रुपये दिए जाएंगे। इसके बाद स्नातक और पीजी के अगले चरणों में छात्रों के सालाना परीक्षा के अंकों के आधार पर छात्रवृत्ति दी जाएंगी। वर्ष 2023-24 (जून2024 के बाद) में स्नातक उपाधि प्राप्त छात्र-छात्राओं में प्रथम, द्वितीय और तृतीय स्थान पर आने वालों को 35 हजार, 25 हजार और 20 हजार एकमुश्त दिए जाएंगे। स्नातकोत्तर उपाधि या एक वर्षीय पाठ्यक्रम में इसी अवधि में प्रथम, द्वितीय और तृतीय आने वालों को एकमुश्त 60 हजार,35 हजार और 25 हजार रूपये मिलेंगे। दोनों वर्गों मे न्यूनतम 60 प्रतिशत अंक होने जरूरी है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button