उत्तराखंड

जल्द से जल्द डीपीआर आगे बढ़ाई जाए, ताकि समय रहते इन दुर्घटना स्थलों को सुरक्षित किया जा सके : मुख्य सचिव राधा रतूड़ी

बचे हुए दुर्घटना स्थलों में गढ़वाल के मुकाबले कुमाऊं के स्थल ज्यादा हैं

 देहरादून : उत्तराखंड राज्य के 727 चिन्हि्त दुर्घटना संभावित स्थलों के जल्द उपचार  के लिए मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने विभाग को जल्द से जल्द डीपीआर बनाने के निर्देश दिए हैं। विभाग अब इनकी डीपीआर बनाने में जुटे हैं।प्रदेश में कुल 2642 चिन्हि्त दुर्घटना स्थल हैं।इनमें से 1915 स्थलों का उपचार पूरा किया जा चुका है। जबकि 727 संभावित दुर्घटना स्थल ऐसे हैं, जिनको चिन्हित किया जा चुका है, लेकिन अभी तक उपचार का कोई काम नहीं हुआ है। इनमें से 188 दुर्घटनास्थलों का कार्य प्रगति पर है।52 पर काम शुरू होने वाला है। जबकि 473 स्थल ऐसे हैं, जिनकी डीपीआर विभाग तैयार कर रहे हैं। बचे हुए दुर्घटना स्थलों में गढ़वाल के मुकाबले कुमाऊं के स्थल ज्यादा हैं। मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने निर्देश दिए हैं कि जल्द से जल्द डीपीआर आगे बढ़ाई जाए, ताकि समय रहते इन दुर्घटना स्थलों को सुरक्षित किया जा सके।

किस जिले में कितने दुर्घटना स्थल, कितने का उपचार बाकी

जिला दुर्घटना स्थल बचे स्थल
देहरादून 152 02
हरिद्वार 41 18
ऊधमसिंहनगर 141 00
चमोली 97 07
टिहरी 230 31
पौड़ी 261 13
अल्मोड़ा 583 197
नैनीताल 347 200
पिथौरागढ़ 52 41
उत्तरकाशी 352 64
चंपावत 74 49
रुद्रप्रयाग 94 05
बागेश्वर 218 100

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button